यूपीएससी, आई.ए.एस., सिविल सर्विसेज परीक्षा के अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू) UPSC Frequently Asked Questions (FAQs)


यूपीएससी, आई.ए.एस., सिविल सर्विसेज परीक्षा के अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (एफएक्यू)

UPSC Frequently Asked Questions (FAQs)


प्रश्न: सिविल सेवा परीक्षा में आवेदन करने के लिए न्यूनतम योग्यता क्या होनी चाहिए?

उत्तर:

  • सिविल सेवा परीक्षा में ऐसी सभी उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं जिन्होंने स्नातक स्तर या इसके समकक्ष कोई डिग्री प्राप्त की हो।
  • जिन उम्मीदवारों के पास ऐसी व्यवसायिक और तकनीकी योग्यताएं हो, जो सरकार द्वारा व्यवसायिक व तकनीकी डिग्रियों के समकक्ष मान्यता रखते हैं, वे भी इस परीक्षा में बैठ सकते हैं।

प्रश्न: यदि किसी ने एमबीबीएस अथवा कोई अन्य चिकित्सा परीक्षा पास की हो, लेकिन अपना इंटर्नशिप पूरा नही किया हो, तो क्या वह इस परीक्षा को देने के लिए योग्य होगा?

उत्तर: ऐसे उम्मीदवार को भी परीक्षा के लिए आवेदन करने के प्रपत्र के साथ संबंधित विश्वविद्यालय था संस्था के संबंधित सक्षम प्राधिकारी से अनुप्रमाणित (।जजमेजमक) कराकर अपनी मूल डिग्री अथवा प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करने होंगे कि उन्होंने डिग्री प्रदान करने हेतु सभी अपेक्षाएँ (जिसमें इण्टर्नशिप पूरा करना की शामिल है) पूरी कर ली है।

प्रश्न: मैनें स्नातक के अंतिम वर्ष की परीक्षा दी है, लेकिन अभी अंतिम परिणाम घोषित नहीं हुये है। क्या मैं उस वर्ष सिविल सेवा परीक्षा दे सकता हूँ?

उत्तर: ऐसे सभी अभ्यर्थी प्रारंभिक परीक्षा में भाग लेने के लिए पात्र होंगे, लेकिन सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में बैठने के समय आप सभी को मुख्य परीक्षा के लिए आवेदन प्रपत्र के साथ-साथ स्नातक अंतिम वर्ष में उत्तीर्ण होने का प्रमाण-पत्र प्रस्तुत करना होगा।

प्रश्न: अवसरों की संख्या के संदर्भ में संघ लोक सेवा आयोग के सामान्य निर्देश क्या है?

उत्तर:

  • प्रारम्भिक परीक्षा में बैठने को परीक्षा में बैठने का एक अवसर माना जायेगा।
  • यदि उम्मीदवार प्रारम्भिक परीक्षा के किसी एक प्रश्न-पत्र में भी परीक्षा दे देता है, तो इसे उसका परीक्षा के लिए एक प्रयास समझा जायेगा।
  • उम्मीदवारी रद्द होने के बावजूद उम्मीवार की परीक्षा में उपस्थिति को एक अवसर माना जायेगा।

प्रश्न: मेरी शैक्षिक पृष्ठभूमि औसत रही है ऐसा माना जाता है कि सिविल सेवा परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षा है और देश की सर्वश्रेष्ठ प्रतिभाएँ ही इसमें सफल होती है?

उत्तर: सिविल परीक्षा में प्रतिभाग करने की योग्यता स्नातक उत्तीर्ण होना है न कि स्नातक में असाधारण अंकों से प्राप्त होना है यह देश की सर्वश्रेष्ठ परीक्षा है, लेकिन इस लिए नहीं कि इसमें केवल आपके बौद्धिक योग्यता या रटने की क्षमता का परीक्षण किया जाता है बल्कि इसलिए क्योंकि इसमें आपके विभिन्न विषयों पर समझ, विश्लेषण की क्षमता और उसे अभिव्यक्त करने की कुशलता किस प्रकार की है, जिनकी शैक्षिक पृष्ठभूमि औसत रही है, वैसे अनेक छात्रें ने भी सेवा में अपनी मेहनत, लगन और निरंतर सुधार के जरिए सफलता पायी।

प्रश्न: मेरी परिवारिक पृष्ठभूमि ग्रामीण है और आर्थिक स्थिति की अच्छी नहीं है। क्या ऐसे में सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की जा सकती है? कुछ लोग सलाह देते है कि पहले कुछ छोटी परीक्षाओं (SSC, PCS आदि) की तैयारी कर के नौकरी लेनी चाहिए और इसके बाद सिविल सेवा की तैयारी करना चाहिए?

उत्तर:

  • आपकी पारिवारिक पृष्ठभूमि का सिविल सेवा परीक्षा में सफलता से कोई सीधा संबंध नहीं है ऐसे अनेक ग्रामीण पृष्ठभूमि और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के विद्यार्थी है जो प्रत्येक वर्ष इस परीक्षा में सफल होते है।
  • लेकिन इसके साथ ही साथ यह भी सच है कि आपकी पारिवारिक और वित्तीय पृष्ठभूमि आपके व्यक्तित्व, सोच और विश्वास को जरूर प्रभावित करती है। अक्सर हमारे विपरीत हालात हमारे सामने दो विकल्प रखती है पहला या तो हम अपनी पारिस्थितियों में कुशल प्रबंधक बनकर उभरे, धैर्य रखे और दबावपूर्ण स्थिति में सकारात्मक मनोबल बनाये रखे रहे। हालांकि ऐसी भी परिस्थितियां आती है, जब हालात हमेंं थोड़ा लाचार बना देती है और हमारा आत्मविश्वास इतना कमजोर होने लगता है कि परीक्षा के लिए जरूरी ऊर्जा और एकाग्रता ही हमारे पास नहीं रह जाती।
  • इसलिए आपको अपनी परिस्थितियों के साथ अपनी क्षमताओं का निष्पक्ष मूल्यांकन करना चाहिए। यदि इसके बाद आप सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी का फैसला करते हैं, तो आपमें दोहरा भाव या दुविधा नहीं होनी चाहिए। यदि अपने एक निर्णय ले लिया है तो उस उसे सही साबित करना है।
  • लेकिन यदि आपके उत्तरदायित्व अत्यधिक हैं और तैयारी के लिए आवश्यक न्यूनतम संसाधन और परिस्थितियां नहीं है, तो आप अन्य परीक्षाओं व विकल्पों के बारे में सोच सकते है। एक बार कहीं स्थिरता आ जाये तो सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर सकते है।

प्रश्न: अक्सर यह सुनने में आता है कि सिविल सेवा परीक्षा में अंग्रेजी माध्यम के विद्यार्थी ही अधिक सफल हो पाते हैं? क्या हिन्दी माध्यम से सफलता प्राप्त करना इतना कठिन है?

उत्तर:

  • संघ लोक सेवा आयोग द्वारा परीक्षा के दौरान भाषायी स्तर पर कोई भेदभाव नहीं किया जाता है। इसलिए हिन्दी माध्यम से भी सफलता की उतनी ही संभावना है, जितनी की अंग्रेजी माध्यम  से।
  • हालांकि पहले पाठ्यसामग्री और नवीनतम जानकारी के स्तर पर अंग्रेजी माध्यम में संसाधन अधिक थे, लेकिन वर्तमान में हिन्दी माध्यम में भी विभिन्न कोचिंग संस्थानों (जैसे - ध्येय IAS) की मैगजीन और वेबसाइटों के जरिए यह समस्या बड़ी नहीं रही है।
  • हिन्दी माध्यम के विद्यार्थियों को भाषायी सरलता व सटीक प्रस्तुतीकरण के स्तर पर समस्याएँ आती है, जिसके लिए निरंतर अभ्यास की जरूरत है। यदि ऐसा कोई करता है, तो निश्चय ही हिन्दी माध्यम के छात्र न केवल सफल होते है बल्कि वरीयता सूची में भी शीर्ष स्थान भी प्राप्त करते है।

प्रश्न: सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए कितना समय पर्याप्त होता है?

उत्तर:

  • सिविल सेवा परीक्षा में सफलता कितने समय में मिल सकती है, इसका कोई वस्तुनिष्ठ निर्धारण निर्धारित तो नहीं किया जा सकता।
  • क्योंकि यह अलग-अलग विद्यार्थियों की क्षमता, शैक्षिक व पारिवारिक पृष्ठभूमि, अभिरूचित दबाव व समय प्रबंधन जैसे व्यक्तित्व के लक्षणों पर भी निर्भर करती है।
  • लेकिन फिर भी सही रणनीति और लगन के साथ एक से दो साल की तैयारी सफल होने के लिए पर्याप्त हैं।

प्रश्न: क्या स्नातक के दौरान भी सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी की जा सकती है?

उत्तर:

  • सिविल सेवा हमेशा से सर्वाधिक आकर्षक कैरियर के रूप में लोकप्रिय रहा है, लेकिन प्रायः विद्यार्थी इसकी तैयारी स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के बाद करते रहे है। इसका एक बड़ा कारण यह रहा है कि स्नातक की डिग्री स्वयं में जटिल और श्रम साध्य है।
  • हालांकि जिनका लक्ष्य पहले से ही सिविल सेवा में जाना निर्धारित है, वे स्नातक के दौरान ही बेहतर रणनीतिक प्रबंधन के जरिए अपनी संभावना बढ़ा सकते है।
  • इसके लिए स्नातक के दौरान आधारभूत अवधारणाओं की समझ के लिए एन-सी-आर-टी- की पुस्तकों को पढ़ें। व्यक्तित्व विकास पर बल दे यानि अपने विचारों को दूसरे के सामने रखना, समय प्रबंधन करना और नेतृत्व की क्षमता का विकास करना आदि।
  • स्नातक के लिए ऐसे विषयों का चयन और उनका अध्ययन कर सकते है, जो आगे चलकर आपके लिए सिविल सेवा परीक्षा में सहायक हो।

प्रश्न: क्या वैकल्पिक विषय के रूप में स्नातक के विषय का ही चयन करना आवश्यक है अथवा कोई अन्य विषय भी ले सकते हैं?

उत्तर: न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता स्नातक होती है, अतः स्नातक में हम जिस विषय को पढ़ते है, उस विषय पर एक समझ के साथ-साथ पकड़ भी बन जाती है जिससे उस विषय में हमें सहजता महसूस होती है। अतः यह विषय चयन का एक आधार हो सकता है।

हालांकि यह अनिवार्य नहीं है कि हम स्नातक से संबंधित विषय ही ले, हम कोई भी अन्य विषय ले सकते है। अतः विषय चयन के निम्न आधार भी हो सकते है-

  • विषय में आपकी रूचि।
  • सामग्री की उपलब्धता
  • मार्गदर्शन की उपलब्धता मार्गदर्शन से तात्पर्य है विषय के विशेषज्ञ की मदद मिलना ।
  • उत्तर लेखन में मार्गदर्शन को लेकर।
  • उपरोक्त आधारों के अलावा भी एक आधार यह भी हो सकता है कि विगत वर्षो में विषय में अच्छे अंक आ रहे है। लेकिन यहां यह स्पष्ट करना जरूरी है कि अच्छे अंक आ रहे है, तो यही आधार हो ऐसा जरूरी नहीं है यह बहुत हद तक स्वयं की उत्तर लेखन शैली और विषय की समझ पर भी निर्भर करता है।

प्रश्न: वैकल्पिक विषय को चयन करते समय सामान्य अध्ययन के प्रश्नों या भाग का कितना ध्यान रखना चाहिए? क्या उस विषय का चयन करना चाहिए जिससे सामान्य अध्ययन का ज्यादा हिस्सा कवर होता है?

उत्तर:

  • हां यह चयन का एक पक्ष हो सकता है। बहुत से ऐसे विषय है जहाँ सामान्य अध्ययन का कुछ भाग उस विषय के दायरे में आता है। जिससे परीक्षा में लाभ मिलता है।
  • हालांकि विषय का चयन विषय में रूचि होना तथा सामाग्री की उपलब्धता और विषय का आसानी से समझ में आना महत्वपूण्ार् आधार होना चाहिए।

प्रश्न: जब मैं अपने आस-पास ऐसे लोगों को देखता हूँ जिनका सिविल सेवा में अंतिम रूप से चयन नहीं हो पाया तब मेरा आत्मविश्वास कम होने लगता है। इसके लिए क्या करना चाहिए?

उत्तर:

  • अधिकतर हमारे आस-पास वहीं लोग दिखते है, जो चयनित नहीं है, तो उनको देखकर आत्मविश्वास कम नहीं होना चाहिए, क्योंकि सबकी अपनी-अपनी रणनीति होती है और अपना तरीका होता है हमें हमेशा यह देखना चाहिए जिनका अंतिम रूप से चयन हुआ है, वो हमारे बीच से ही है।
  • अंतिम चयन के लिए मात्र जानकारी काफी नहीं होती हमें सही उत्तर लेखन परीक्षा की मांग और समसायिक मुद्दों से जोड़कर तैयारी करनी चाहिए।

असफलता के कई कारण हो सकते हैः-

  • परीक्षा कक्ष में सीमित सीमित समय होता है, और प्रश्न की जानकारी होते हुए भी सही से अभिव्यक्त न कर पाना, जिसकी एक वजह अभ्यास की कमी होती है।
  • परीक्षा के समय दबाव का प्रबंधन नहीं कर पाना जिससे आते हुए प्रश्न का भी उत्तर गलत हो जाता है या जो तथ्य उत्तर पुस्तिका से लिखने चाहिए वह नहीं लिख पाते।
  • सही मार्गदर्शन की कमी, कि क्या-क्या पढ़ना चाहिए, क्या नहीं।
  • रणनीतिक रूप से व्यक्ति कितना सक्षम है- समय प्रबंधन, तथ्यों का प्रयोग अैर लेखन शैली की लेकर।

उपाय-

  • सकारात्मक नजरिया बनाए रखें - सफल लोगों से मिले, नकारात्मक विचार नजरअंदाज करें।
  • अपना आत्मविश्वास कम न होने दें, आप में अपार क्षमता और ऊर्जा है, उसका सदुपयोग कर अपने लक्ष्य को प्राप्त करें।
  • अपनी कमियों को पहचाने और उन्हें दूर करें, दूसरे की गलतियों से खुद में सुधार लाए, और अपने मार्ग पर दृढ़ संकल्प के साथ आगे बढ़ते जाये।

प्रश्न: लड़कियों पर पारिवारिक दबाव अधिक होता है, जिस कारण पढ़ाई में एकाग्रता नहीं बन पाती है, इसके लिए क्या करूँ?

उत्तर:

  • खुद को लक्ष्य पर केन्द्रित करे, और अपनी पूरी लगन और ऊर्जा के साथ अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए समय का समुचित प्रयोग करें।
  • अपने माता-पिता और परिवार को विश्वास दिलाए कि हम लक्ष्य प्राप्त करेगें।
  • अगर पहले चरण में सफलता मिल जाती है, तो अभिभावक और परिवार का विश्वास बढ़ता है अतः लक्ष्य प्राप्ति के लिए कड़ी मेहनत करें।
  • आगे क्या कठिनाईयां आयेंगी उसके लिए नकारात्मक सोच न रखकर, वर्तमान को बेहतर बनाने का प्रयास करें।
  • स्वयं के प्रेरणा स्त्रेत बने, छोटे-छोटे लक्ष्य बनाये और पूरा करेें जिससे आत्मविश्वास बहुत मजबूत होगा।

प्रश्न: कोचिंग का चयन कैसे करें?

उत्तर:

  • कोचिंग का उद्देश्य केवल सूचना देना नहीं बल्कि समझ का दायरा बढ़ाना है कोचिंग हमें परीक्षापयोगी विषयों और तथ्यों को कैसे पढ़ना है ओर प्रश्नों की मांग के अनुसार दृष्टिकोण विकसित कराने में सहायक होता है।
  • यह हमें तथ्यों के बहुआयामी प्रयोग और हमारे व्यक्तित्व विकास में सहायक होता है।
  • किसी कोचिंग का चयन उसकी उपलब्ध सामग्री के आधार पर न करें, क्येांकि कक्षा में शिक्षक के पढ़ाने की तरीका कैसे है अधिक मायने रखता है।
  • ट्रायल क्लास द्वारा चयन किया जा सकता, क्योंकि आपको क्लास करने से गुणवत्ता का पता चल जाता है।

प्रश्न: सिविल सेवा की तैयारी के लिए क्या स्व-अध्ययन (Self Study) पर्याप्त है या कोचिंग की अनिवार्यता है?

उत्तर:

सही मार्गदर्शन और समय बचत हेतु कोचिंग आवश्यक है:

कोचिंग के लाभ-

  • पाठ्यक्रम के विषयवस्तु पर समझ विकसित करने में सहायक। किसी विषय और तथ्य को कैसे पढ़ना और प्रयोग कैसे करना है आदि बातों में कोचिंग सहायक की भूमिका निभाती है।
  • समय प्रबंधन तथा उचित मार्गदर्शन में सहायक, क्योंकि बाजार में अध्ययन सामग्री बहुत है, ऐसे में क्या पढ़ना चाहिए और क्या छोड़ना चाहिए के चयन में कोचिंग मार्गदर्शक का काम करता है।
  • निरंतरता बढ़ती है, जिससे हममें पढ़ने की आदत विकसित होती है।
  • एक अच्छा ग्रुप मिल सकता है, प्रतिस्पर्धा का माहौल मिलता है, ग्रुप में चर्चा करके किसी विषय के सभी आयाम से सोचने की क्षमता विकसित होती है।
  • अध्ययन सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित होती है जिससे हम सामग्री को लेकर भटकाव से बच जाते है क्योंकि बाजार में अनावश्यक सामग्री की उपलब्धता बहुत है।

कोचिंग के हानि-

  • यदि सही कोचिंग का चयन नहीं हुआ तो वह आपको आपके लक्ष्य तक नहीं पहुंचा पायेगी, और आपकी ऊर्जा, लगन एवं मेहनत का सही उपयोग नहीं हो पायेगा।
  • समय बहुमूल्य है गलत कोचिंग से समय की बर्बादी होती है।
  • सही कोचिंग न होने से आर्थिक क्षति भी पहुंचती है और परिणाम कुछ भी नहीं निकलता जिसका वजह से घर से भी दबाव बनता है।
  • भटकाव की संभावना रहती है।

प्रश्न: कौन-सा समाचार पत्र (छमूेचंचमत) पढ़ा जाना चाहिए?

उत्तर:

  • एक या दो स्तरीय न्यूजपेपर पर्याप्त होते है, उसकी भाषा और गुणवत्ता आधार होना चाहिए।
  • अंग्रेजी में - The Hindu और Indian Express
  • हिन्दी- दैनिक जागरण या भास्कर का राष्ट्रीय संस्करण, जनसत्ता।
  • राष्ट्रीय संस्करण- जो दिल्ली से निकलता है और उस पर राष्ट्रीय संस्करण लिखा होता है।
  • ये सारे पेपर इंटरनेट पर भी उपलब्ध है e-Paper के नाम से ।

प्रश्न: हिन्दी माध्यम के अभ्यर्थियों के लिए भी क्या "The Hindu" पढ़ना आवश्यक है?

उत्तर: नहीं, यह अनिवार्य नहीं, बहुत सारे उदाहरण हैं जिन्होंने The Hindu नहीं पढ़ा, The Hindu में स्थानीय न्यूज को महत्व न देकर राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय और समसामायिक मुद्दों को प्राथमिकता देते है अतः यही विषय हमें जिस पेपर में मिले वह लाभदायक होगा।

प्रश्न: समाचार पत्र (Newspaper) को किस प्रकार पढ़ा जाये?

  • वर्तमान घटनाक्रम को मुद्दों और विषय के साथ जोड़कर पढ़े, जिससे घटना की प्रासंगकिता पता चलेगी।
  • किसी भी मुद्दे को पाठ्यक्रम के अलग-अलग भाग से जोड़ने का प्रयास करें, जिससे आपकी तैयारी बेहतर होगी, क्योंकि अधिकांश प्रश्न समसामायिक मुद्दों से संबंधित होते है।
  • कुछ न्यूज जो लगातार आते है उसे ध्यान में रखें और अंततः जो निष्कर्ष प्राप्त हो उसे नोट करे लें और उन्हें प्रारम्भिक व मुख्य परीक्षा के अनुसार पाठ्यक्रम से जोड़ कर पढ़ें।
  • घटनाओं के प्रमुख तथ्यों को लिख सकते है जो तैयारी में लाभदायक साबित होगा।
  • घटनाओं को एक रजिस्टर में राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय आर्थिकी तथा पर्यावरण पारिस्थितिकी को अलग-अलग प्रश्नपत्र के अनुसार लिख सकते है, परीक्षा के दौरान बहुत लाभदायी होगा।
  • महत्वपूर्ण संपादकीय लेखों को काट करके के अलग रख सकते हैं या महत्वपूर्ण बिन्दु पर नोट्स बना सकते है जो कि निबंध और मुख्य परीक्षा में महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

प्रश्न: समसामयिक (ब्नततमदज) घटनाओं को प्रश्न के उत्तर के साथ किस प्रकार जोड़ा जाये?

उत्तर: पाठ्यक्रम में टॉपिक के अनुरूप जोड़कर और विगत वर्ष अगर कोई प्रश्न आया हो तो उसी के अनुरूप उत्तर लिखने में प्रयोग करें।

प्रश्न: क्या सिविल सेवा के साथ राज्य लोक सेवा आयोग के द्वारा आयोजित परीक्षा की भी तैयारी की जा सकती है?

उत्तर:

  • अवश्य ही तैयारी की जा सकती है, कई राज्य ऐसे है जहां संघ लोक सेवा के अनुसार ही परीक्षा की प्रक्रिया हैं जहां नहीं भी है, वहां भी की जा सकती है।
  • हालांकि संघ और राज्य लोक सेवा आयोग के प्रकृति में भिन्नता होती है, लेकिन अधिकांश विषय समान ही होते है, जो अंतर होता है वह प्रत्येक राज्य के अपने अलग-अलग तरीके होते है वहां थोड़ी अलग से परिश्रम की आवश्यकता होती है।
  • राज्यों द्वारा आयोजित परीक्षाओं में तथ्यों की प्राथमिकता होती है, हालांकि राज्यों में भी बदलाव शुरू हो गया है, जबकि संघ लोक सेवा में अवधारणा या संकल्पना की आवश्यकता होती है, अब आपको दोनों (तथ्यों व अवधारणा) का सांमजस्य बिठाकर तैयारी करनी होगी।
  • अगर हम देखे तो पाठ्यक्रम में बहुत अधिक अंतर नहीं है, सही रणनीति और सही तालमेल के साथ तैयारी की जा सकती है।

प्रश्न: कौन-कौन सी मैंगजीन पढ़नी चाहिए?

प्रश्न: मुझे तैयारी के लिए केवल एक वर्ष का समय मिला है, क्या मैं इतने समय में IAS बन सकता हूँ?

उत्तर:

  • वैसे UPSC की तैयारी के एक से दो साल की गहन अध्ययन की आवश्यकता होती, क्योंकि पाठ्यक्रम बहुत विस्तृत है और विषय पर समझ एवं पकड़ बनाना आवश्यक होेता है इसमें समय लगता है।
  • एक वर्ष के समय में थोड़ी कठिनाई हो सकती है विषय पर समझ को लेकर प्रश्नों के बदलते स्वरूप को लेकर। परन्तु अगर सही रणनीति, बेहतर मार्गदर्शन और लगन के साथ इसे एक वर्ष में भी किया जा सकता है।
  • इसके लिए व्यक्ति की पारिवारिक पृष्ठभूमि उसकी शैक्षणिक योग्यता अर्थात् आधारभूत जानकारी आदि उसकी तैयारी के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अगर यह सब अनुकूल है तो इसके साथ-साथ कड़ी मेहनत करके सफलता पायी जा सकती है।
  • शुरूआत में निरंतरता की कमी तथा विचलन अधिक होता है, लगता है, इतना बड़ा पाठ्यक्रम है कैसे होगा? ऐसे नकारात्मक विचारों को नजर अंदाज करते हुए लक्ष्य की ओर अग्रसर रहना होगा।
  • एक वर्ष के लिए बेहतर रणनीति के साथ-साथ आप जो पढ़ रहे है उसका मूल्यांकन करते रहना आवश्यक है जिससे आपको पता चलता रहेगा कि तैयारी सही दिशा में चल रही है।

प्रश्न: क्या तैयारी के लिए नोट्स (Notes) बनाना आवश्यक है?

उत्तर:

  • नोट्स का मतलब किताब में लिखी विस्तारपूर्वक जानकारी को संक्षेप में और महत्वपूर्ण जानकारी को सरल और सहज भाषा में लिखना।
  • नोट्स (Point Form) या (Flow Chart) में हो सकते है जिससे कम में अधिक जानकारी लिखा जा सके।
  • नोट्स का सबसे अधिक लाभ परीक्षा के समय कम समय में त्मअपेपवद में होती है जिससे आत्मविश्वास बढ़ता है।
  • नोट्स अपनी भाषा और अपनी शैली में बनाना चाहिए, जिससे लेखन शैली में सुधार आता है।

प्रश्न: क्या इसकी तैयारी के लिए दिल्ली में रहना आवश्यक है, या मैं घर से ही कर सकता हूँ?

उत्तर:

  • यह अनिवार्य नहीं है। सिविल सेवा हमेशा से ही एक आकर्षक करियर रहा है जिसकी वजह से परीक्षार्थियों को बढ़ती संख्या को देखकर बहुत जगह कोचिंग संस्थान खुल रहे है। अब दिल्ली ही केवल केन्द्र नहीं रहा।
  • यह सही है कि आपको सही मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है, वो आप को जहाँ सुविधाजनक हो आप ले सकते है।
  • यदि आप के आस-पास अच्छे कोचिंग संस्थान उपलब्ध है, तो वहाँ से आप तैयारी में मदद ले सकते है।
  • यदि आस-पास कोचिंग की सुविधा न हो तो दिल्ली से कोचिंग करके, घर जाकर तैयारी कर सकते है, लेकिन ध्यान रहे कोचिंग के संपर्क में बने रहे, और अपना मूल्याकन करते रहे, जिससे आपकी तैयारी अच्छी होगी।

प्रश्न: NCERT को कैसे पढ़ें?

उत्तर:

  • NCERT कहानी द्वारा विषयवस्तु को समझाने का प्रयास करती है जिसमें बहुत ही सरल भाषा का प्रयोग होता है। उसका अर्थ समझें और कहानियों को आज के समय से जोड़कर सोचें और समझने का प्रयास करें।
  • यह गागर में सागर के समान होती है छब्म्त्ज् आपके सोचने समझने की क्षमता को विकसित करती है और तैयारी में आधारभूत संरचना की भूमिका निभाती है इसके ज्ञमल ॅवतके को समझे और उसका प्रयोग उत्तर देने में करें।
  • इसके दिए गये प्रश्नों को हल करें, जिससे उत्तर लेखन शैली अच्छी होगी और साथ ही विषय पर पकड़ मजबूत होगी।
  • इससे प्राथमिक जानकारी प्राप्त करके, उसको न्यूज पेपर और मैंगजीन से जोड़कर पढ़ सकते है जिससे आपके पास उस विषय की जानकारी बढ़ेगी, और उसमें समझ विकसित होगी।

प्रश्न: India Year Book को पढ़ना क्या अनिवार्य है?

उत्तर:

  • अवश्य पढ़ना चाहिए क्योंकि इसमें भारत सरकार की योजना, नीतियां और सरकार की उपलब्धि, चुनौती और आवश्यकता पर विस्तृत जानकारी होती है जो परीक्षा की दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है।
  • पूरी किताब संभव न हो तो कुछ चयनित अध्याय जरूर पढ़ें जैसे- पर्यावरण, वित्त, संस्कृति तथा पर्यटन, वैज्ञानिक और तकनीकी, विकास, न्याय एवं विधि स्वास्थ्य तथा परिवार कल्याण, ग्रामीण तथा शहरी विकास, कृषि आदि। ये अध्याय परीक्षा के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण है इसे पाठ्यक्रम के अनुसार प्रयोग करें।

प्रश्न: टेस्ट सीरीज तैयारी में कहाँ तक सहायक है?

उत्तर:

  • अत्यधिक सहायक है क्योंकि परीक्षा कक्ष सा माहौल मिलता है मानसिक तौर पर मजबूती मिलती है।
  • समयबद्ध रूप से तैयारी का स्वमूल्यांकन होता है, हम टेस्ट सीरीज के साथ पूरा पाठ्यक्रम पढ़ते है और मूल्यांकन करते है, जिसका परीक्षा में उचित लाभ मिलता है।
  • परीक्षा कक्ष का जो दबाव होता है, उससे निपटने की आदत विकसित होती है जिससे दबाव के बावजूद अच्छा प्रदर्शन रहता है।
  • टेस्ट में अगर अच्छे अंक आते है तो आत्मविश्वास बढ़ता है और मेहनत करने की प्रेरणा मिलती है क्योंकि लगातार अच्छे अंक प्राप्त करना होता है।
  • अगर अंक कम मिलते है तो सुधार का मौका मिलता है हमें अपनी कमियां पता चलती है जिसे समय रहते दूर किया जा सकता है।

प्रश्न: अगर मैं जॉब में हूँ तो UPSC तैयारी किस प्रकार से कर सकता हूँ?

उत्तर:

  • जॉब की प्रकृति किस प्रकार की है यह मायने रखता है, आपको सामंजस्य बिठाना होगा, साथ ही समय प्रबंधन महत्वपूर्ण हो जाता है।
  • कार्यालय के दौरान समसामायिकी के लिए न्यूज पेपर को पढ़ा जा सकता है महत्वपूर्ण मुद्दों को Highlights कर सकते हैं और घर लौटकर उसका नोट्स बना लें।
  • लक्ष्य साप्ताहिक होने चाहिए जिससे आपको ऊबाऊपन महसूस नहीं होगा और रूचि बनी रहेगी। साप्ताहिक लक्ष्य पूरा होने पर आत्मविश्वास बढ़ेगा।
  • सप्ताहांत का सदुपयोग करें। सप्ताह भर में जो पढ़ा है उसका Revision करें एवं टेस्ट द्वारा मूल्यांकन करें।
  • पढ़ाई की रणनीति घंटो के आधार पर नहीं बल्कि टॉपिक के आधार पर बनाए, जिससे आपको समय की कमी को लेकर नकारात्मक विचार नहीं आयेगें। अध्ययन की गुणवत्ता महत्वपूर्ण है ना कि मात्र।
  • दबाव में स्मार्ट रणनीति की आवश्यकता होती है, जो भी पढ़े अच्छे से पढ़े, तथ्यों को लिंक करके पढ़े, चयनित पढ़े उत्तर लेखन शैली बेहतर बनाए।

प्रश्न: मैं अगर विज्ञान की पृष्ठभूमि का हूँ तो क्या कला (Arts), मानविकी (Humanities) का विषय रख सकता हूँ?

उत्तर:

  • आप रख सकते है। यहां आप अपनी सुविधा अनुसार कोई भी विषय ले सकते है। ऐसा कोई प्रावधान नहीं है कि आप जिस पृष्ठभूमि से है वही विषय ले।
  • वैसे जिस विषय में आपकी रूचि हो और जो विषय सामान्य अध्ययन के पाठ्य क्रम में सहायक हो उसका चयन आप कर सकते है। विषय का चयन पूर्णतः आपकी स्वेच्छा पर निर्भर करता है।

प्रश्न: मैं दिनचर्या (Routine) का पालन नहीं कर पाता हूँ।

उत्तर:

  • दिनचर्या में लचीलापन होना चाहिए लेकिन कार्यो की प्राथमिकता तय होनी चाहिए, जिससे दिनचर्या नहीं खराब होगी।
  • प्रतिदिन के स्थान पर साप्ताहिक मूल्यांकन करें और सुधार करने की कोशिश करें।
  • दिनचर्या को बोझ न समझे उसको जीवन का भाग बनाये ताकि ऊर्जा बनी रहे और दिनचर्या व्यवहारिक बनेगी।
  • मनोरंजन वाली गतिविधियां जोड़ सकते है, खेल, संगीत, मूवी जिससे ऊर्जा बनी रहे और आप ताजगी के साथ रूटीन अपनायेगें।

प्रश्न: अकेले पढ़ना चाहिये या ग्रुप में पढ़ना जरूरी है।

उत्तर:

Group Study के कुछ लाभ या हानि भी हो सकते है-

लाभ-

  • विषय पर अलग आयाम से सोचने का मौका मिलता है। और सोच का दायरा विस्तृत होता है, विषय पर संतुलित पकड़ विकसित होती है।
  • तार्किक क्षमता का विकास होता है विषय पर सोचने-समझने और क्या महत्वपूर्ण हो सकता है, का दृष्टिकोण बनता है।
  • अपने कमजोर पक्ष की जानकारी मिलती है उसको दूर किया जा सकता है।
  • संवाद कला और व्यक्तित्व में निखार आता है।

हानि-

  • अगर अच्छे विद्यार्थी ग्रुप में न हो तो समय की बर्बादी होती है और भटकाव की स्थित उत्पन्न हो सकती है।
  • ग्रुप में छात्र समान स्तर के नहीं है, तो नकारात्मकता बढ़ सकती है। परीक्षा के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा नहीं हो पायेगी।

प्रश्न: परीक्षा नजदीक आने पर दबाव बढ़ने लग जाता है इस समय पढ़ाई की क्या रणनीति होनी चाहिए?

उत्तर:

  • परीक्षा नजदीक आने पर कोई भी नई किताब या नोट्स न पढ़े, क्योंकि उससे दबाव महसूस होगा और कुछ भी नया याद कर पाना मुश्किल होगा।
  • अपने बनाए हुए नोट्स या पढ़ी हुई किताब को बार-बार दुहराएँ। आपमें आत्मविश्वास बढ़ेगा क्योंकि आपने उनको कई बार पढ़ रखा है, जिससे वो आसानी से याद हो जायेगा।
  • नकारात्मक लोगों से दूर रहे, सकारात्मक लोगों से मिले।
  • आत्मविश्वास बनाए रखें, जो अभी तक पढ़ा है उस पर आपकी पकड़ अच्छी है, तो वहां से आप निश्चिन्त है कि किसी भी प्रकार का भी प्रश्न पूछे जा सकते है यह आप मानें।
  • कुछ प्रेरणादायक पुस्तकों को पढ़ सकते हैं आप पायेंगे जो दबाव में भी दृढ़ता से खड़े रहे वहीं सफल हुए है, जिससे आपको प्रेरणा मिल सकती है।