यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: परमाणु अप्रसार संधि (Nuclear Non-Proliferation Treaty)

खबरों में क्यों?

  • 3 जनवरी, 2022 को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के P-5 यानी चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका ने परमाणु हथियारों को फैलने से रोकने और परमाणु संघर्ष से बचने का संकल्प लिया- संयुक्त बयान परमाणु अप्रसार संधि (एनपीटी) की नवीनतम समीक्षा के बाद जारी किया गया था, जो पहली बार 1970 में लागू हुआ था

एनपीटी के बारे में

  • एनपीटी एक ऐतिहासिक अंतरराष्ट्रीय संधि है.
  • इसका उद्देश्य है:
  1. परमाणु हथियारों और हथियार प्रौद्योगिकी के प्रसार को रोकना,
  2. परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग में सहयोग को बढ़ावा देना,
  3. परमाणु निरस्त्रीकरण और सामान्य और पूर्ण निरस्त्रीकरण को प्राप्त करने के लक्ष्य को आगे बढ़ाना
  • संधि परमाणु-हथियार राष्ट्रों द्वारा निरस्त्रीकरण के लक्ष्य प्राप्ति हेतु, एक बहुपक्षीय संधि में एकमात्र बाध्यकारी प्रतिबद्धता का प्रतिनिधित्व करती है.
  • 1968 में हस्ताक्षर के लिए खोला गया, यह संधि 1970 में लागू हुई.
  • 11 मई 1995 को, संधि को अनिश्चित काल के लिए बढ़ा दिया गया था.
  • पांच परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्रों सहित कुल 191 राष्ट्र संधि में शामिल हुए हैं.
  • किसी अन्य शस्त्र सीमा और निरस्त्रीकरण समझौते की तुलना में अधिक राष्ट्रों ने एनपीटी की अनुमोदन की है, जो इस संधि के महत्व का प्रमाण है

परमाणु प्रतिबंध पर अन्य संधियाँ और समझौत

कुछ अन्य संधियाँ हैं:

  1. पार्शियल टेस्ट बन ट्रीटी (PTBT).
  2. स्ट्रेटेजिक आर्म्स लिमिटेशन ट्रीटी (एसएएलटी I), जिसमें सामरिक आक्रामक हथियार, आक्रामक हथियारों पर अंतरिम समझौता और प्रोटोकॉल था
  3. स्ट्रेटेजिक आर्म्स लिमिटेशन ट्रीटी (SALT II).
  4. स्ट्रेटेजिक आर्म्स रिडक्शन न्यूनीकरण ट्रीटी (I and II).
  5. कोम्प्रेहेंसिव न्यूक्लियर टेस्ट बैन ट्रीटी (CTBT),
  6. ट्रीटी ओन द प्रोहीबीशन ऑफ न्यूक्लियर वेपन्स (TPNW)

परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्र

  • P5 (चीन, फ्रांस, रूस, यू.के. और यू. एस.)
  • भारत और पाकिस्तान परमाणु हथियार संपन्न राष्ट्र हैं.
  • इज़राइल पर परमाणु भी हथियार संपन्न राष्ट्र होने का प्रबल संदेह है.
  • उत्तर कोरिया का अपना परमाणु हथियार कार्यक्रम है लेकिन उसके परमाणु हथियारों की वास्तविक स्तिथि चर्चा का विषय है इसके पास कुल सात प्रमुख प्रकार की लंबी दूरी की मिसाइलें हैं, जिनकी सीमा 1,500 किमी से लेकर 13,000 किमी तक है

परमाणु हथियार भंडार

  • चीन का मौजूदा भंडार लगभग 350 है.
  • फ्रांस का लगभग 290 है.
  • रूस के पास लगभग 6,257 है.
  • यू.के. के लगभग 225 हैं.
  • यू. एस. ए. के लगभग 5,600 हैं.
  • रूस का परिचालन भंडार लगभग 1,600 है और यू. एस. ए. के लिए यह लगभग 1,650 है.
  • पाकिस्तान के पास लगभग 165 है.
  • भारत के पास लगभग 160 है.
  • इजराइल और उत्तर कोरिया के पास विखंडनीय सामग्री क्रमशः लगभग 90 और 45 हथियार बनाने के लिए पर्याप्त है.
  • दुनिया का भंडार 1980 के दशक के दौरान चरम पर था और 2005 तक काफी कम हो गया था.
  • अधिकांश कमी सेवानिवृत्त स्टॉकपाइल के विखंडन से आई है.
  • प्रौद्योगिकियों में विकास का मतलब यह भी है कि दुनिया इन परमाणु हथियारों को तैनात करने के नए तरीके देखती रहती है, जो एक और चिंताजनक प्रवृत्ति है

भविष्य की राह

  • ऑस्ट्रेलिया परमाणु क्षमता हासिल करने को प्रयासरत है, जो अन्य देशों को परमाणु हथियार विकसित करने या हासिल करने की दिशा में काम करने के लिए प्रेरित करेगा.
  • यह, सिद्धांत रूप में, हथियारों की एक और होड़ को फिर से शुरू कर सकता है.
  • P5 का संयुक्त बयान, 'परमाणु युद्ध की रोकथाम और हथियारों की होड़ से बचना', परमाणु हथियारों के गैर-आक्रामक उपयोग और एनपीटी समझौते के प्रति प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है. लेकिन इस बयान के शब्दों और हथियारों में कमी पर पिछले बयानों को एक अलग रोशनी में भी समझा जा सकता है. अगर किसी राष्ट्र को अपनी सुरक्षा पर खतरा लगता है तो पारंपरिक हथियारों के खिलाफ परमाणु हथियारों का उपयोग किया जा सकता है.
  • परमाणु हथियारों का इतिहास यह आभास देता है कि एनपीटी पूरी तरह से सफल नहीं हुआ है, लेकिन यह एक गंभीर विफलता भी नहीं है.
  • एनपीटी ने जिस मार्ग को प्रशस्त किया है उस पर बने रहने के लिए प्रमुख शक्तियों पर जोर दिया गया है और हथियारों की होड़ को समाप्त करने और पूर्ण निरस्त्रीकरण की दिशा में अपने कार्यों के माध्यम से प्रतिबद्धता का संकेत दिया गया है.