22 अप्रैल : पृथ्वी दिवस (Earth Day) : डेली करेंट अफेयर्स

कोरोना वायरस के प्रकोप ने हम सबको जिंदगी की एक अलग ही पहलू से रूबरू कराया। कहीं पूरी तरह से लॉक डाउन लगा तो कहीं आंशिक तौर पर, लेकिन जहां-जहां लॉकडाउन लगा वहां का घटता वायु प्रदूषण, साफ पानी, शांत वातावरण और खुली हवा में सांस लेते लोग … इसने दुनिया की एक अलग ही तस्वीर पेश की। इसने बताया कि अगर हमने विकास की अंधी दौड़ में प्रकृति से छेड़छाड़ की तो इसका खामियाजा हमें जरूर भुगतना पड़ेगा। इसलिए हमें अपने इस पृथ्वी ग्रह और इसके वातावरण को बेहतरीन और स्वच्छ बनाने की जरूरत है। इसके लिए तमाम तरह के प्रयास भी किए जाते रहे हैं और इन्हीं कोशिशों में से एक है पृथ्वी दिवस का मनाया जाना

हर साल 22 अप्रैल को दुनिया भर में पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। इसे पहली बार साल 1970 में मनाया गया था। इसका मकसद पर्यावरण संरक्षण के प्रति लोगों को जागरूक बनाना है। इससे पहले पृथ्वी दिवस दो अलग-अलग मौकों पर मनाया जाता था, जहां 21 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय पृथ्वी दिवस मनाते थे, जिसे संयुक्त राष्ट्र संघ की मान्यता प्राप्त थी, तो वहीं 22 अप्रैल को महज़ पृथ्वी दिवस मनाया जाता था। लेकिन यह सिलसिला 22 अप्रैल 1970 को खत्म हो गया। साल 1970 से दुनिया भर में 192 से अधिक देशों के निवासी एक साथ पृथ्वी दिवस मनाते हैं। इस बार पृथ्वी दिवस के 52 साल पूरे हो रहे हैं।

सबसे पहले पृथ्वी दिवस को मनाना किसने और कब शुरू किया:

अमेरिकी सीनेटर गेलोर्ड नेल्सन ने 1970 में पृथ्वी दिवस की नींव पर्यावरण शिक्षा के रूप में डाली थी। जिसके बाद से पृथ्वी दिवस मनाने की परंपरा शुरू हुई। अमेरिका में इस दिन को ट्री डे के रूप में भी मनाया जाता है। नेल्सन द्वारा इस मुहिम को शुरू करने के बाद से उन्हें फादर ऑफ अर्थ डे के नाम से जाना जाने लगा। इस दिवस के मौके पर एक साथ 192 देशों के अरबों नागरिक पृथ्वी के संरक्षण का संकल्प लेते हैं। गौरतलब है कि इस दिन उत्तरी ध्रुव में वसंत तो दक्षिणी ध्रुव में शरद ऋतु होती है। पहले पृथ्वी दिवस के बाद पर्यावरण को बचाने की मुहिम पूरी दुनिया में शुरू हुई। संयुक्त राज्य अमेरिका में कई पर्यावरणीय कानूनों को अमलीजामा पहनाया गया। साफ़ हवा और पानी से जुड़े कानून वजूद में आए और साथ ही लुप्तप्राय प्रजाति अधिनियम को भी क्रियान्वित किया गया। इस मौके पर पर्यावरणीय संरक्षण संस्था की भी नींव रखी गई।

पूरी दुनिया में पृथ्वी दिवस की एक खास अहमियत है। यही वजह है कि साल 2016 में संयुक्त राष्ट्र में इसी दिन ऐतिहासिक पेरिस समझौते पर सभी देशों ने दस्तखत किए थे। हर साल इस दिवस की एक थीम होती है। इस साल पृथ्वी दिवस की थीम 'Invest In Our Planet' यानी 'हमारे ग्रह में निवेश करें' है, जबकि पिछले साल इसकी थीम ‘Restore Our Earth’ थी।