गोल्डन ग्लोब अवार्ड (Golden Globe Award) : डेली करेंट अफेयर्स

ऑस्कर अवॉर्ड को फिल्मों की दुनिया का सबसे प्रतिष्ठित पुरस्कार माना जाता है। लेकिन अगर आप फिल्मों में रुचि रखते हैं तो आपको यह बताने की जरूरत नहीं है कि ऑस्कर के अलावा भी राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फिल्मों से जुड़े कई प्रतिष्ठित पुरस्कार दिए जाते हैं। इन्हीं प्रतिष्ठित पुरस्कारों में से एक है गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड्स। हाल ही में 79वें गोल्डन ग्लोब पुरस्करों की घोषणा की गई। किस श्रेणी में किसको यह पुरस्कार मिला …. इस बात से ज्यादा यह पुरस्कार निष्पक्षता और विश्वसनीयता से जुड़े विवादों के चलते चर्चा में है।

हाल ही में 79वें गोल्डन ग्लोब पुरस्कारों की घोषणा हुई। पावर ऑफ द डॉग फिल्म को ड्रामा श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ फिल्म और जेन कैंपियन को सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार मिला है। विल स्मिथ ने अपनी फिल्म किंग रिचर्ड के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के रूप में पहला गोल्डन ग्लोब पुरस्कार जीता है। निकोल किडमैन ने बीइंग द रिकार्डोस के लिए सर्वश्रेष्ठ फिल्म अभिनेत्री के रूप में पांचवां गोल्डन ग्लोब जीता। स्टीवन स्पिलबर्ग द्वारा निर्देशित वेस्ट साइड स्टोरी को कॉमेडी/म्यूजिकल सेगमेंट में सर्वश्रेष्ठ फिल्म, रेचल ज़ेगलर को सर्वश्रेष्ठ फिल्म अभिनेत्री और एरियाना डीबोस को सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री का पुरस्कार मिला है। एंड्रयू गारफील्ड ने टिक, टिक... बूम! के लिए कॉमेडी/म्यूजिकल सेगमेंट में सर्वश्रेष्ठ फिल्म अभिनेता का पुरस्कार जीता। टीवी श्रेणी में, जेसी आर्मस्ट्रांग की "सक्सेशन" श्रृंखला ने सर्वश्रेष्ठ ड्रामा सीरीज़ का पुरस्कार अपने नाम किया। इसी श्रेणी में जेरेमी स्ट्रॉन्ग ने सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का और सारा स्नूक ने सहायक भूमिका में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार जीता। जेसन सुदेइकिस को टेड लासो के लिए कॉमेडी/म्यूजिकल श्रेणी में सर्वश्रेष्ठ टीवी अभिनेता का पुरस्कार मिला। केनेथ ब्रानेघ ने फिल्म "बेलफास्ट" के लिए मोशन पिक्चर ग्लोब में सर्वश्रेष्ठ पटकथा श्रेणी का पुरस्कार जीता। जापानी फिल्म "ड्राइव माई कार" को सर्वश्रेष्ठ मोशन पिक्चर - गैर अंग्रेजी और डिज्नी की "एनकैंटो" को सर्वश्रेष्ठ मोशन पिक्चर - एनिमेटेड के रूप में चुना गया।

हॉलीवुड फॉरेन प्रेस एसोसिएशन (HFPA) ने इस बार इन पुरस्कारों की घोषणा लाइवब्लॉग के माध्यम से की है। यानी इसको टेलीविजन पर प्रसारित नहीं किया गया। आयोजन के दौरान कोई भी बड़ा सेलिब्रिटी मौजूद नहीं रहा और ना ही कोई धूमधाम देखने को मिला। HFPA ने बताया कि कोविड महामारी के कारण इस बार इस आयोजन को इतना सादा और सीमित रखा गया। हालांकि सिनेमा प्रेमियों का एक बड़ा वर्ग ऐसा है जिसका यह मानना है कि इस पुरस्कार का हमेशा की तरह धूमधाम से आयोजन इसलिए नहीं किया गया क्योंकि इसका बड़े पैमाने पर बायकॉट किया जा रहा है।

गोल्डन ग्लोब अवार्ड्स अमेरिका में आयोजित होने वाला ऑस्कर के लेवल का ही एक बेहद प्रतिष्ठित अवार्ड समारोह है। मनोरंजन जगत में विशेष उपलब्धियों के लिए हर साल हॉलीवुड फॉरेन प्रेस एसोसिएशन (HFPA) देशी-विदेशी कलाकारों और फिल्मों को गोल्डेन ग्लोब पुरस्कार से सम्मानित करता है। पहला गोल्डन ग्लोब पुरस्कार जनवरी 1944 को लॉस एंजिल्स में आयोजित हुआ था। हर बार जनवरी में दिए जाने वाले इस अवॉर्ड को इस बार 105 अंतराष्ट्रीय पत्रकारों के मतों के आधार पर दिया गया है। ये पत्रकार हॉलीवुड और अमेरिका के बाहर के मीडिया द्वारा संबंद्धता प्राप्त होते हैं। पिछले कुछ सालों से कुछ कलाकार गोल्डन ग्लोब अवार्ड्स का विरोध कर रहे हैं। इसकी मुख्य वजह है इसकी ज्यूरी यानि हॉलीवुड फॉरन प्रेस एसोसिएशन। दरअसल HFPA पर नस्लभेद और पक्षपात करने के आरोप लगे हैं। HFPA में सालों से एक भी अश्वेत पत्रकार को शामिल नहीं किया गया है। हालांकि इस बार इसमें 6 अश्वेत पत्रकारों को शामिल किया गया है इसके बावजूद इसे इस बार भी बहिष्कार का सामना करना पड़ा। ‘वार्नर मीडिया’, नेटफ्लिक्स और ऐमज़ॉन जैसे बड़े-बड़े प्रोड्क्शन हाउस और स्टूडियोज़ ने HFPA से कन्नी काट ली है। पिछले साल अभिनेता टॉम क्रूज ने भी अपने तीन पुरस्कार वापस कर दिए थे।

बढ़ते विरोध को देख HFPA ने अपने सुधार की बात कही और इसी क्रम में इसने 6 अश्वेत पत्रकारों को भी शामिल किया। इसने एक नया कोड ऑफ़ कंडक्ट लागू करने की बात भी कही। हालांकि HFPA के कुछ सदस्यों ने ये भी कहा कि उनका ज्यादातर विरोध उनकी छवि धूमिल करने के लिए किया जा रहा है।