क्यों हो रहा था असम और मेघालय के बीच विवाद? : डेली करेंट अफेयर्स

असम और मेघालय के बीच 50 साल से जारी सीमा विवाद अब काफी हद तक सुलझ गया है। दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने बीते 29 मार्च को सीमा विवाद को सुलझाने वाले समझौते पर हस्ताक्षर किया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की मौजूदगी में हुए इस समझौते के पीछे का क्या है इतिहास; किन-किन इलाक़ों को लेकर हुआ समझौता और इससे जुड़े दूसरे महत्वपूर्ण पहलू कौन कौन से हैं?

दरअसल असम पुनर्गठन अधिनियम 1971 के मुताबिक़ साल 1972 में मेघालय को असम से अलग करके एक नए राज्य के तौर पर बनाया गया। ये दोनों राज्य आपस में 884.9 किलोमीटर की सीमा साझा करते हैं। इसमें 12 इलाक़े ऐसे हैं जिनको लेकर इन दोनों राज्यों के बीच विवाद शुरू हो गया। इनमें ऊपरी ताराबारी, गजांग रिज़र्व फॉरेस्ट, हाहिम, लंगपीह, बोरदुआर, बोकलापारा, नोंगवा, मातमूर, खानापारा-पिलंगकाटा, देशदेमोरिया ब्लॉक I और ब्लॉक II, खंडुली और रेटाचेरा शामिल हैं। विवाद को देखते हुए असम पुनर्गठन अधिनियम 1971 को न्यायपालिका में चुनौती दी गई। ग़ौरतलब है कि दोनों राज्यों के बीच विवाद की सबसे बड़ी वजह असम के कामरूप जिले की सीमा से लगा लंगपीह जिला है। दरअसल पहले लंगपीह असम के कामरूप जिले का हिस्सा हुआ करता था, लेकिन आजादी के बाद यह गारो हिल्स और मेघालय में शामिल कर दिया गया, जबकि असम इसे अपनी मिकिर पहाड़ियों का हिस्सा मानता रहा है।

इसी तरह के तमाम मुद्दों को लेकर शुरू हुआ ये विवाद काफी लम्बे वक़्त से चल रहा है। विवाद का खामियाजा न केवल स्थानीय प्रशासन को बल्कि आम जनता को भी भुगतना पड़ रहा था ... उदाहरण के तौर पर कुछ लोग ऐसे हैं जो असम में रह रहे हैं, लेकिन उनका नाम वहां की मतदाता सूची में न होकर मेघालय की वोटर लिस्ट में है। इसके अलावा, विकास का न हो पाना और आए दिन हिंसा की घटनाएं होना भी दिक्कतें बनी हुई थीं।

इसी विवाद को सुलझाने के लिए एक कमेटी का गठन हुआ था। इसी साल जनवरी में कमेटी ने अपनी सिफारिशें दे दी थीं। अब बीते 29 मार्च को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की मौजूदगी में असम और मेघालय के मुख्यमंत्रियों द्वारा इस सिफारिश पर आधारित एक समझौते पर हस्ताक्षर किया गया। हालांकि विवाद की 12 जगहों में से 6 पर ही समझौता हुआ है, लेकिन आगे के लिए भी प्रयास जारी है। जिन 6 जगहों को लेकर विवाद सुलझा है, वो 36.79 वर्ग किमी का इलाका है। इनमें असम का कछार, कामरूप, कामरूप मेट्रोपोलिटन और मेघालय के पश्चिमी खासी हिल्स, री-भोई और पूर्वी जयंतिया हिल्स शामिल हैं। ग़ौरतलब है कि असम का नागालैंड, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय और मिजोरम के साथ भी सीमा विवाद है।