यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में करेंट अफेयर्स MCQs क्विज़ : 22, अप्रैल 2022


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़

(Daily Current Affairs MCQs Quiz for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, MPPSC. BPSC, RPSC & All State PSC Exams)

तारीख (Date): 22, अप्रैल 2022


प्रश्न 1. निम्नलिखित में से कौन सा संगठन भारत में कंज्युमर कॉन्फिडेंस सूचकांक जारी करता है?

a) राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय
b) राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय
c) केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय
d) भारतीय रिजर्व बैंक

उत्तर: (D)

व्याख्या: रिज़र्व बैंक ने जनवरी 2022 के दौर के लिए अपने कंज्युमर कॉन्फिडेंस सूचकांक (सीसीएस) के परिणाम जारी किए। यह सर्वेक्षण 02 जनवरी से 11 जनवरी, 2022 के दौरान अहमदाबाद, बेंगलुरु सहित 13 प्रमुख शहरों में किया गया था; भोपाल, चेन्नई, दिल्ली, गुवाहाटी, पटना; और तिरुवनंतपुरम।

प्रश्न 2. मध्याह्न भोजन योजना से संबंधित निम्नलिखित कथनों पर विचार करें।

1) यह कक्षा 10 तक के बच्चों के लिए है।
2) इसका नाम बदलकर पीएम पोषण कर दिया गया है।

निम्नलिखित में से कौन सही हैं

a) केवल 1
b) केवल 2
c) दोनों
d) उपरोक्त में से कोई नहीं

उत्तर: (B)

व्याख्या:

  • यह कक्षा 8 तक के बच्चों के लिए है।
  • इसका नाम बदलकर पीएम शक्ति निर्माण / पीएम पोषण कर दिया गया है।

प्रश्न 3. राष्ट्रपति के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें।

1. निर्वाचक मंडल संसद के ऊपरी और निचले सदनों (राज्य सभा और लोकसभा सांसदों) के सभी निर्वाचित और मनोनीत सदस्यों से बना होता है।
2. वेतन और अन्य भत्ते संसद द्वारा तय किए जाते हैं और भारत की संचित निधि पर प्रभारित होते हैं।

उपरोक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?

a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (B)

व्याख्या: निर्वाचक मंडल संसद के ऊपरी और निचले सदनों (राज्य सभा और लोकसभा सांसदों) के सभी निर्वाचित सदस्यों और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की विधानसभाओं (विधायकों) के निर्वाचित सदस्यों से बना होता है।
लोकसभा, राज्य सभा, राज्य विधान सभा और विधान परिषद का कोई भी मनोनीत सदस्य चुनाव में भाग नहीं ले सकता है।

वेतन और अन्य भत्ते संसद द्वारा तय किए जाते हैं और भारत की संचित निधि से देय होते हैं।

प्रश्न 4. कलिंग युद्ध के बाद, अशोक के सामने सबसे बड़ा आदर्श और उद्देश्य धम्म का प्रचार-प्रसार करना था। धम्म के संदर्भ में, जैसा कि अशोक के अभिलेखों में बताया गया है निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

1. धम्म कोई धर्म या धार्मिक प्रणाली नहीं है, बल्कि एक ‘नैतिक कानून’ है।
2. इसके अंतर्गत प्राकृतिक न्याय एवं युद्ध के प्रोत्साहन के आधारभूत तत्व हैं।
3. यह कम बुराई एवं कई अच्छे कर्मों के सिद्धांत पर आधारित है।

A. केवल 1
B. केवल 1 और 3
C. केवल 2 और 3
D. 1, 2 और 3

उत्तर: (B)

व्याख्या: अशोक के शिलालेखों में वर्णित ‘धम्म’ न तो कोई धर्म है और न ही कोई धार्मिक प्रणाली, बल्कि यह एक ‘नैतिक कानून’, ‘एक आचार संहिता’ या एक ‘नैतिक व्यवस्था’ है। अशोक के द्वितीय स्तंभ शिलालेख में ‘धम्म क्या है?’ जैसे प्रश्नों का वर्णन किया गया है। इसके बाद इसमें धम्म के दो बुनियादी गुणों या घटकों कम बुराई एवं कई अच्छे कर्मों का विश्लेषण भी किया गया है। अशोक का ‘धम्म’ सामान्यतया केवल आडम्बरपूर्ण वाक्यांशों का संग्रह नहीं है। उन्होंने जानबूझकर इसे ‘राज्यनीति’ के एक प्रमुख घटक के रूप में अपनाने का प्रयास किया। अशोक ने हिंसा से युद्ध और विजय का परित्याग किया और जानवरों की हत्या करना प्रतिबंधित कर दिया। अतः विकल्प B सही है।

प्रश्न 5. पाल राजाओं के संदर्भ में निम्नलिखित में कौन सा/से कथन असत्य है/हैं?

1. पालों के मध्य एशिया और अरब देशों के साथ नजदीकी व्यापारिक और सांस्कृतिक संबंध थे।
2. शक्तिशाली शैलेन्द्र वंश ने पाल राजाओं के पास कई दूतों को भेजा।
3. पाल राजाओं ने हिंदू और बौद्ध धर्म दोनों को संरक्षण प्रदान किया।
4. धर्मपाल ने भगवान शिव के सम्मान में एक हजार मंदिरों का निर्माण किया।

A. केवल 1 और 2
B. केवल 3 और 4
C. केवल 1 और 4
D. केवल 2, 3 और 4

उत्तर: (C)

व्याख्या: पाल वंश का शासन 8वीं से 12वीं शताब्दी के दौरान बिहार और बंगाल इलाकों में था। ‘विनायक पाल’ ने, न कि धर्मपाल ने ‘शैव देवता’ के सम्मान में एक हजार मंदिरों का निर्माण किया। पाल राजवंश के दक्षिण-पूर्व एशिया एवं चीन के साथ घनिष्ठ व्यापारिक एवं सांस्कृतिक संबंध थे। दक्षिण-पूर्व एशिया और चीन के साथ पाल राजवंश का व्यापार काफी लाभदायक था और इसने साम्राज्य की समृद्धि में महत्वपूर्ण वृद्धि की। शक्तिशाली शैलेन्द्र राजवंश जिसने मलाया, जावा, सुमात्र एवं पड़ोसी द्वीपों पर शासन किया, ने पाल राजवंश के राजाओं के पास कई राजदूतों को भेजा। तिब्बती इतिहासकारों के अनुसार पाल राजवंश के शासक बौद्ध शिक्षा और धर्म के महान संरक्षक थे। धर्मपाल ने विक्रमशिला में प्रसिद्ध बौद्ध मठ की स्थापना की, जिसका प्रसिद्धि के मामले में नालन्दा के पश्चात दूसरा स्थान था। पाल राजाओं ने हिंदू धर्म को भी संरक्षण प्रदान किया। उन्होंने सीखने एवं शैक्षिक उद्देश्यों के लिए अनुदान भी दिए। उन्होंने ब्राह्मणों को अपने राज्यों में गुरूकुल स्थापित करने एवं चलाने के लिए दान भी दिया। अतः विकल्प (c) सही है।

प्रश्न 6. पाल, गुर्जर-प्रतिहार और राष्ट्रकूटों के बीच वर्चस्व के लिए होने वाले त्रिपक्षीय संघर्ष के मुख्य कारणों के संदर्भ में निम्नलिखित में कौन सा/से कथन सत्य है/हैं?

1. इस युद्ध का मुख्य उद्देश्य कन्नौज शहर पर अधिकार करने की इच्छा थी जो उस समय संप्रभुत्ता का प्रतीक था।
2. तीनों ही पक्ष मध्यवर्ती उपजाऊ क्षेत्रों को नियंत्रित करने के उद्देश्य से संघर्षरत थे।

A. केवल 1
B. केवल 2
C. 1 और 2 दोनों
D. न तो 1, न ही 2

उत्तर: (C)

व्याख्या: पाल, गुर्जर-प्रतिहार और राष्ट्रकूटों के बीच वर्चस्व के लिए ‘त्रिपक्षीय संघर्ष’ उनके समय की एक महत्वपूर्ण घटना थी। कहा जाता है कि इस लड़ाई के पीछे प्रमुख कारण कन्नौज शहर को अपने अधिकार में रखने की इच्छा थी जो उस समय सम्प्रभुता का प्रतीक था। इसके अलावा, मध्यवर्ती उपजाऊ क्षेत्रों को नियंत्रित करने के उद्देश्य से अंतर-क्षेत्रीय युद्ध भी हुआ था। अतः विकल्प (c) सही है।

प्रश्न 7. हर्ष के शासनकाल के संदर्भ में निम्नलिखित में कौन सा/से कथन सत्य है/हैं?

1. हर्ष का साम्राज्य पंजाब से लेकर उत्तरी उड़ीसा और हिमालय से लेकर नर्मदा के किनारों तक विस्तृत था।
2. हर्ष ने नर्मदा से आगे अपना साम्राज्य विस्तार करने के लिए एक अभियान शुरू किया, लेकिन ऐसा करने में विफल रहा।
3. भारत के इतिहास में हर्ष ने अपनी शांतिपूर्ण गतिविधियों के लिए उतनी ख्याति अर्जित नहीं की, जितनी कि अपने विजय अभियानों के लिए की।

A. केवल 1
B. केवल 1 और 2
C. केवल 2 और 3
D. 1, 2 और 3

उत्तर: (B)

व्याख्या: भारत के इतिहास में हर्ष ने अपने विजय अभियानों से इतनी अमर ख्याति अर्जित नहीं की जितनी कि अपनी शांतिपूर्ण गतिविधियों से। अपनी सीमा का विस्तार करने के क्रम में हर्ष ने सेना में वृद्धि की। हर्ष ने हाथियों की संख्या बढ़ाकर 60,000 एवं घुड़सवारों की संख्या 100,000 तक कर दी। इस प्रकार से हर्ष ने 30 वर्षों तक बिना हथियार उठाये शासन किया। हर्ष ने नर्मदा पार कर अपने साम्राज्य का विस्तार करने के लिए अभियान की शुरूआत की, लेकिन असफल रहा। ऐहोल शिलालेख में वर्णित है कि बादामी के चालुक्य राजा पुलकेसिन द्वितीय के हाथों हर्ष को पराजय का सामना करना पड़ा। ह्नेनसांग भी कहता है कि हर्ष चालुक्य राजा को पराजित नहीं कर सका था। हर्ष का साम्राज्य पंजाब से लेकर उत्तरी उड़ीसा तक और हिमालय से लेकर नर्मदा नदी के किनारे तक विस्तारित था। वल्लभी के मैत्रेय राजा ध्रुवभट्ट और कामरूप के राजा भाष्करवर्मन इनके सहयोगी थे। अतः विकल्प (b) सही है।